(वीडियो) यू-ट्यूब पर छाया उत्तराखंड का अनिल सिंह पानू , अमित बड़ाना से भी आगे निकला

0
2019

हल्द्वानीउत्तराखंड के युवा हर क्षेत्र में अपनी कला का लोहा मनाकर न केवल भारत में बल्कि पुरी दुनिया में उत्तराखड का नाम रोशन कर रहे हैं । इसी लिस्ट में नाम जुड़ गया है उत्तराखंड के युवा अनिल सिंह पानू का । अनिल सिंह पानू की क्रिएटिविटी का जादू यू-ट्यूब पर सिर चढ़कर बोल रहा है। अनिल के ताजा फनी वीडियो को यू-ट्यूब  में  अबतक 6.4 मीलियन से भी ज्यादा लोग देख चुके हैं वह भी महज तीन दिनों के भीतर । अनिल का यह फनी वीडियो    नंबर वन रैंक भी था फिलहाल यह वीडियो चौथे नंबर पर है । एक साल में यह चौथा मौका है जब अनिल के वीडियो ने देश में पहला स्थान पाया है।

 

 

[youtube https://www.youtube.com/watch?v=Y0r3ksTy2Kc]

29 वर्षीय अनिल पिथौरागढ़ के गांव स्याल्बे (निकट मुवानी), तहसील डीडीहाट के रहने वाले हैं। वर्तमान में दिल्ली में कार्यरत हैं। शुरुआत में अनिल ने इनकम टैक्स, बैंकिंग, आधार कार्ड से संबंधित जागरूक करती वीडियो बनाई। अधिक सार्थक परिणाम नहीं आने पर कॉमेडी की तरफ रुख किया। चैनल बनाने के दूसरे माह अनिल को 17400 रुपये की पहली आय हुई। यू-ट्यूब चैनल से वर्तमान में उनकी डेढ़ लाख रुपये से अधिक की मासिक इनकम हो रही है। तीन माह पहले अनिल ने एक लाख सब्सक्राइबर होने पर सिल्वर बटन जीता था। नबंर वन ट्रेडिंग वाले वीडियो में रन मूवी के कौआ बिरयानी का दृश्य फिल्माया गया है।

अनिल ने अखबार में खबर पढ़ी कि कनाडा में रह रही भारतीय मूल की कॉमेडियन लिली सिंह यू-ट्यूब चैनल से 5 करोड़ रुपये महीना कमा रही हैं। इस खबर से अनिल को यू-ट्यूब चैनल शुरू करने की प्रेरणा मिली। 12वीं तक पढ़े अनिल ने गूगल एड सेट्स का कोर्स किया है। लिहाजा, दिसंबर 2016 में जेएमएस आर्ट नाम से चैनल शुरू किया। डीडीहाट में स्थित मलयनाथ मंदिर के नाम से चैनल का नाम ‘जय मलयनाथ स्वामी’ रखा। अनिल के साथ गुड्डू, प्रिंस दुबे, धीरज राजपूत, सदरे आलम, रोशन झा, प्रकाश पंत, भूपेंद्र सिंह पानू (अनिल का भाई) छह युवाओं की टीम काम करती है। कैमरा व एडिटिंग का काम अनिल पानू खुद संभालते हैं। भाई की सफलता के बाद भूपेंद्र ने अपना अलग चैनल शुरू कर दिया है। मेल आइडी के जरिये आसानी से यू-ट्यूब चैनल बनाया जा सकता है।

अरब कंट्री में भी खासा लोकप्रिय है यह चैनल

जेएमएस चैनल के 3.28 लाख सब्सक्राइबर हैं। सर्वाधिक 2.60 लाख भारत में हैं। जबकि अरब देश कुवैत, कतर, ओमान, मलेशिया, ओमान, बहरीन आदि में  भी चैनल लोकप्रिय है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here