पहले केस में दिखाई स्मार्टनेस और बन गई उत्तराखण्ड की लेडी सिंघम

0
1111

हल्द्वानी:  महिलाओं की बहादुरी के किस्से पूरे देश के युवाओं को प्रेरित करते है। महिला दिवस के मौके पर कई महिलाओं की कहानी लोगों ने देखी। वो सभी महिलाए देश में मौजूद सभी महिलाओं के लिए उदाहरण है। कुछ महिलाओं की कहानी समाज को स्वच्छ तरीके से आगे बढ़ाने की है, कोई देश की सेवा दे रहा है। बात पुलिस सेवा की करें तो पुरुषों के अलावा महिला पुलिस कर्मी भी अपनी कार्यशैली के बदौलत वाहवाही लूट रही है।  

हल्द्वानी की एसआई मंजू ज्याला (काठगोदाम) भी कुछ ऐसा ही उदाहरण हैं। हल्द्वानी में पिछले माह युवती की दो लड़कियों से शादी की घटना ने पूरे राज्य में तहलका मचा दिया था। इस केस की जिम्मेदारी एसआई मंजू ज्याला ने संभाली और आरोपी कृष्ण सेन को जेल भिजवाया। उनकी स्मार्टकार्यशैली से आईजी पूरन सिंह रावत भी प्रभावित हुए। उन्होंने एसआई मंजू ज्याला को प्रशस्ति पत्र,नकद पुरस्कार देकर और बेस्ट एंप्लॉय ऑफ द मंथ से सम्मानित किया। इस दौरान नैनीताल एसएसपी जन्मेजय खंडूरी भी मौजूद रहे।

Image result for मंजू ज्याला

बता दें कि 2015 बैच एसआई मंजू ज्याला मूल रूप से जिला ऊधमसिंह नगर स्थित खटीमा की रहने वाली हैं। मंजू ज्याला के पिता श्री राम सिंह ज्याला भी भारतीय सेना को अपनी सेवा दे चुके है और रिटायर्ड हो चुके हैं। वहीं मां मोहनी देवी गृहणी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here