उत्तरकाशी: फोटो खींचना बच्चों को पड़ा भारी और अचानक बढ़ गया भागीरथी का पानी

0
250

देहरादून: कहते है कि पानी और आग से कभी नहीं खेलना चाहिए। लेकिन कोई इसे समझने को तैयार नहीं। कई बार देखा जाता है कि नदी में नहाने के दौरान पानी बढ़ने से अप्रिय घटना हो जाती है।साल 2011 में इंदौर में भी कुछ इस तरह का हादसा हुआ था। जहां फोटों खिचने गया एक परिवार पानी बढ़ने से बह गया।  गढ़वाल के उत्तरकाशी स्थित चिन्यालीसौड़ में पीपलमंडी के निकट गंगा भागीरथी नदी के बीच फोटो खिंचाने गए दो बच्चे को मुसीबत का सामना करना पड़ा। नदी में अचानक पानी बढ़ने से बच्चे फंस गए। ईश्वर का शुक्र है कि कोई अप्रिय हादसा नहीं हुआ। नदी के आसपास लोगों ने चिल्लना शुरू किया तो इस बारे में लोगों को पचा चला। उसके बाद पुलिस को इस बारे में सूचित किया गया और रेस्क्यू अभियान चलाकर तीनों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया।

children stuck between bhagirathi river

मामला रविवार का है। पीपलमंडी के निकट नगुण में बैसाखी का मेला लगा हुआ था। शाम को करीब पांच बजे गंगा भागीरथी नदी में पानी कम होने पर सूलीठांग निवासी रितेश चंद (13) पुत्र श्रीपाल शाह और जतिन (14) पुत्र देव सिंह रावत फोटो खिंचाने के लिए नदी के बीच तक जा पहुंचे। इसी दौरान धरासू पावर हाउस से नदी का पानी छोड़ा गया और बच्चे नदी के बीच फंस गए। सूचना मिलते ही धरासू थाना पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने जवाने लाइफ जैकेट पहनकर कर नदीं में उतरें करीब पौन घंटे तक चले रेस्क्यू अभियान के बाद दोनों बच्चों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया।

एसओ धरासू रविंद्र यादव ने जानकारी दी कि बच्चों को सुरक्षित निकालकर परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि रेस्क्यू टीम में एसओ यादव के साथ एसआई विनोद पंवार, हेड कांस्टेबल कमल नेगी, अजय चंदेल, रिंकी कैंतुरा, दीपिका चौहान, दीपिका राणा एवं अजय राणा शामिल थे। उन्होंने कहा कि बच्चों को फोटो जैसी चीजों के लिए अपनी जान को जोखिम में नहीं डालना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here