उत्तराखण्ड: स्कूल भी सुरक्षित नहीं, टीचर ने 4 साल के मासूम की आंख फोडी

0
99

काशीपुर:स्कूल बच्चों को एक सुरक्षा प्रदान करता है। अभिभावक भी मानते है कि उनका बच्चा स्कूल में सुरक्षित होगा और अच्छा आचरण सीख रहा होगा। लेकिन काशीपुर के स्कूल में हुई घटना ने अभिभावकों को डरा दिया है। शहर के स्कूल में चार साल के बच्चे की आंख में शिक्षिका ने पेन डाल दिया। इससे छात्र की आंखों की रोशनी चले गई थी।

मामले के अनुसार बिजनौर जिले के थाना धामपुर के ग्राम मोरना निवासी चंद्रशेखर ने पुलिस को दी तहरीर दी है। जिसमें उन्होंने कहा है कि 23 फरवरी को स्कूल में शिक्षिका ने भविष्य की बाईं आंख में पेन मार दिया, जिससे आंख फूट गई और रोशनी भी चली गई। पीडित के पिता ने पुलिस को बताया कि वह मोहल्ला काजीबाग में सपरिवार रहते हैं। उनका पुत्र भविष्य (9) मोहल्ला लाहौरियान स्थित विद्यालय में कक्षा चार वर्ष का छात्र है। पीडित के परिवार ने स्कूल के प्रबंधक पूर्व विधायक राजीव अग्रवाल समेत तीन लोगों के खिलाफ कटोराताल पुलिस चौकी में मुकदमा दर्ज कराया है। आरोप है कि स्कूल शिक्षिका ने पेन से उसके बेटे की आंख फोड़ दी। उन्होंने मुरादाबाद के एक नेत्र रोग विशेषज्ञ से भविष्य की आंख का ऑपरेशन कराया, जिस पर 28 हजार रुपये का खर्च आया। स्कूल प्रबंधक ने पहले तो इलाज खर्च उठाने का आश्वश्न दिया था लेकिन बाद में वो मुकर गए। उन्होंने पीडित की मां के साथ अभद्र व्यवहार भी किया। इसके अलावा  छात्र की मां को अश्लील शब्दों का प्रयोग करते हुए जान से मारने की धमकी दी। पूर्व विधायक अग्रवाल ने इन आरोपों को झूठा बताया है।

स्कूल इस मामले से पला झाड़ रहा है और इस बारे में जानकारी ना होने की बात बोल रहा है। पीडित के पिता ने पुलिस को जानकारी दी की  24 फरवरी को उनकी पत्नी सरिता ने स्कूल जाकर पूछताछ की तो प्रधानाचार्या और शिक्षिका ने गलती स्वीकार करते हुए उपचार कराने का आश्वासन दिया था।

तहरीर के आधार पर पुलिस ने पूर्व विधायक अग्रवाल, शिक्षिका जागृति और प्रधानाचार्या के खिलाफ धारा 326, 354ए, 504 और 506 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here