अफशान : पत्थर फेंकने से लेकर फुटबॉल तक की दास्ताँ

0
104

नई दिल्ली :पिछले साल एक लड़की की जम्मू कश्मीर में पुलिस पर पत्थर फेंकते हुए तस्वीर मीडिया में वायरल हुई थी | इस लड़की का नाम अफशान आशिक़ है इस घटना के एक साल बाद अफशान की जिंदगी पूरी तरह बदल गई है |अफशान के मुताबिक उस तस्वीर ने उनके खेल और ज़िन्दगी को पूरी तरह बदल दिया | इस तस्वीर के बाद अफशान की मुलाक़ात मुख्यमंत्री मेहबूबा मुफ़्ती से हुई जिन्होने राज्य में महिला फुटबॉल को बढ़ावा देने का आश्वासन दिया |

आज अफशान जम्मू कश्मीर की फुटबॉल टीम की गोलकीपर और कप्तान है |23 वर्षीया अफशान मुंबई के एक क्लब के लिए भी खेलती है और जल्द ही उस के जीवन पर एक फिल्म भी बनने जा रही है |मंगलवार को अफशान और उसकी पूरी टीम व कोच सतपाल सिंह ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाक़ात की |

मीडिया से बात करते हुए अफशान ने कहा की उन्होने गृह मंत्री से मांग की उनके राज्य में एक स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया (साई) का इंस्टिट्यूट होना चाहिए जिससे युवा लड़कियों के फुटबॉल के गुर सिखाये जा सकें | अफशान ने कहा की गृह मंत्री ने हमारे सामने मुख्यमंत्री से बात की और कहा की वह हमसे मिलें जब हम वापस कश्मीर आयें | मेहबूबा मुफ़्ती ने कहा की वह पहले से ही इस मुद्दे पर ध्यान दे रही हैं और आगे भी वह हरसंभव मदद करेंगी |

जब अफशान से सवाल किया गया की वह पत्थर फेंकने को लकेकर शर्मिंदा हैं तो उसने कहा की यह प्रतिक्रिया में उठाया गया कदम था |पुलिस वालों ने अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया और उसकी की टीम की एक खिलाडी को भी थप्पड़ मारा जिसके जवाब में उन्होने पत्थर उठाया |वह किसी भी चीज के लिए शर्मिंदा नहीं है , अगर पुलिस ने बदसलूकी न की होती तो वह पत्थर नहीं उठाती |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here