मेट्रो के बाद एयर टैक्सी मेट्रिनो के रूप में उत्तराखण्ड को एक और सौगात

0
8083

देहरादून : मेट्रो के बाद देहरादून को एक और सौगात मिलने वाली है । यह सौगात है एयर टैक्सी मेट्रिनो के रूप में , मेट्रिनो इस वक्त लंदन , साउथ कोरिया, अबू धाबी, अमेरिका , नीदरलैंड आदि देशों में चल रही है। 

देहरादून को जाम से निजात दिलाने के लिए मसूरी-देहरादून विकास प्राधिकरण (एमडीडीए) ने एक सुनहरा सपना देखा है। यह पूरा होगा एयर टैक्सी मेट्रिनो के संचालन के पर। जमीन से कई मीटर ऊपर पाइप के सहारे दौड़ने वाली मेट्रिनो परियोजना पर प्राधिकरण ने काम शुरू कर दिया है। प्राधिकरण के उपाध्यक्ष डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव ने मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह के समक्ष इसका प्रस्तुतीकरण भी किया।

उपाध्यक्ष डॉ. आशीष कुमार के अनुसार कुछ समय पहले नीति आयोग ने मेट्रिनो का संचालन पायल प्रोजेक्ट के तौर पर शुरू करने की हरी झंडी दे दी है। हालांकि आयोग ने दिल्ली के लिए इसकी संस्तुति की है। इसी तर्ज पर देहरादून में भी इसके संचालन के प्रयास शुरू किए जा रहे हैं। इसकी वजह यह कि यहां भी जाम की समस्या दिनों-दिन विकट होती जा रही है। मेट्रिनो की सबसे खास बात यह कि इसका संचालन अधिक भीड़-भाड़ वाले इलाके में भी किया जा सकेगा।

इस परियोजना में किसी बड़े ढांचे के निर्माण की भी जरूरत नहीं होती है। मुख्य सचिव ने भी परियोजना पर सहमति व्यक्ति की और अब मेट्रिनो बनाने वाली इसी नाम की कंपनी मेट्रिनो के अधिकारियों को दून में बुलाने की तैयारी की जा रही है। मेट्रिनो एक पॉड (डिब्बा) टैक्सी की तरह है और यह रोप-वे की तरह नजर आती है। हालांकि रोप-वे ट्रॉली को किसी स्थान पर रोकने पर अन्य ट्रॉली भी थम जाती हैं, जबकि मेट्रिनो में ऐसा नहीं होता। साथ ही यह एयर कंडीशंड (एसी) सुविधा से भी लैस होती है। एमडीडीए वीसी के अनुसार मेट्रिनो का संचालन जमीन से कम से कम 6.5 मीटर की ऊंचाई पर किया जाएगा। विभिन्न क्षेत्रों में जरूरत के अनुसार इसकी ऊंचाई तय की जाएगी।

मेट्रिनो की रफ्तार 60 किलोमीटर प्रति घंटा तक होगी। रफ्तार के लिहाज से भी यह अधिक जाम वाली सड़कों पर सफर करने से कहीं बेहतर है। मेट्रिनो चालकरहति होती है। इसमें भीतर स्क्रीन पर विभिन्न स्टेशन के नाम होते हैं और यात्री उन पर चुनाव करके संबंधित स्टेशन पर उतर सकेंगे। उतरने व चढऩे के दौरान पॉड टैक्सी लिफ्ट की तरह नीचे आएगी और फिर ऊपर चली जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here