0
59

लखनऊ लोहिया संस्थान लखनऊ के डॉक्टरों ने कमर के नीचे हुए ट्यूमर का सफल ऑपरेशन कर एक युवती को नई जिंदगी दी है। युवती ट्यूमर की वजह से घर में कैदी बन गई थी जिसे चिकित्सकों ने आजाद किया है । ट्यूमर की वजह से वह इतनी परेशान थी कि उसका घर से निकलना दुश्वार हो गया था। 

चिकित्सकों के अनुसार लेफ्ट साइड में हुए ट्यूमर के कारण युवती के लिए उठना-बैठना तो दूर सोना तक मुश्किल  हो गया था। इतना ही नहीं कमर के नीचे बड़े उभार के कारण युवती ने 3 वर्षों से घर से निकलना तक बंद कर दिया था। ट्यूमर निकाले जाने के बाद अब युवती पूरी तरह से स्वस्थ है।

लोहिया संस्थान के ऑर्थोपैडिक सर्जरी विभाग के डॉ. सचिन अवस्थी के अनुसार लखीमपुर निवासी 35 वर्षीय युवती के कमर के नीचे ट्यूमर काफी फैल चुका था। पीड़िता के अनुसार पंद्रह वर्ष की उम्र में गांठ बन गई थी। हालांकि झिझक के कारण उसने किसी को बताया नहीं। चार साल पहले गांठ इतनी बड़ी हो गई कि चलना-फिरना तक दुश्वार हो गया था। इसके बाद डॉक्टरों को दिखाया गया। फायदा न होने पर परिवारीजन लोहिया संस्थान लेकर आए थे। पांच दिसंबर को भर्ती करने के बाद छह दिसंबर को उसका ऑपरेशन किया गया।


चार घंटे चली सर्जरी के बाद तीन किलो का ट्यूमर शरीर से अलग किया गया। एक हफ्ते बाद महिला को डिस्चार्ज कर दिया गया। इसके बाद सोमवार को टांके कांटे गए। अब युवती पूरी तरह सामान्य है। सावधानी के कारण बायोप्सी करवाई जा रही है। डॉ. सचिन के अनुसार हजार में एक को ऐसी दिक्कत होती है। इसका कारण जेनेटिक डिसऑर्डर होता है। शरीर के किसी भी हिस्से में गांठ महसूस होने पर तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here