11,400 करोड़ रुपए के बाद अब 800 करोड़ रुपए का घोटाला

0
163

नई दिल्ली :” रोटोमैक ” पेन की दुनिया का जाना माना नाम है , आप ने भी कभी न कभी रोटोमैक कंपनी के पेन जरूर इस्तेमाल किए होंगे । इस कंपनी के पेन के साथ आपके बचपन की यादें जुड़ी होंगी लेकिन अब हम आपको ऐसी खबर बताने जा रहे हैं जो उन यादों की मिठास को कम कर सकती है ।

हाल ही में पंजाब नेशनल बैंक में नीरव मोदी द्वारा 11,400 करोड़ रुपए का घोटाला सामने आया था । अब एक और कारोबारी के 800 करोड़ रुपए के घोटाले से हड़कंप मच गया है। इस कारोबारी का नाम है विक्रम कोठारी जो रोटोमैक कंपनी के मालिक हैं। कानपुर के रहने वाले कोठारी ने बैंकों से 800 करोड़ रुपए लोन लेने के बाद वापस नहीं किए हैं। माल रोड पर स्थित उनका ऑफिस पिछले एक हफ्ते से बंद है। सोशल मीडिया पर उनके देश छोड़कर भागने की खबरें छाई हुई थीं। जिसके बाद रविवार को उन्होंने बयान जारी कर कहा कि वह कानपुर में ही हैं। कोठारी रोटोमैक ग्लोबल प्राइवेट लिमिटेड के चेयरमैन और एमडी हैं। उन्होंने इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ोदा, इंडियन ओरवसीज बैंक और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के 800 करोड़ रुपए का लोन नहीं चुकाया है। हालांकि यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और इलाहाबाद बैंक के सूत्रों का कहना है कि कोठारी ने लोन ली गई राशि का ब्याज तक नहीं दिया है। 

बैंक अधिकारी ने कहा कि वह माल रोड पर स्थित रोटोमैक के ऑफिस जा रहे हैं लेकिन वह बंद है। उन्होंने आरोप लगाया है कि कोठारी से फोन पर बात करने की उन्होंने कोशिश की लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। कोठारी ने रविवार को बयान जारी कर कहा- पहली बात इसे घोटाला मत कहिए। दूसरी बात मैं देश छोड़कर नहीं गया हूं और मैं कानपुर में ही हूं। बैंक ने मेरी कंपनी को नॉन परफॉर्मर संपत्ति घोषित किया है डिफॉल्टर नहीं। बैंकों से लिए गए कर्ज का केस अभी नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) के पास है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here