हिमाचल में कम प्रचार बना हार का कारण ,वीरभद्र सिंह ने सीनियरों पर साधा निशाना

0
118

नई दिल्ली: गुजरात और हिमाचल में भाजपा की जीत के बाद कांग्रेस पार्टी में एक बार फिर राहुल गांधी की भूमिका को लेकर सवाल खड़े होने लग गए है। ये 29वां मौका है जब राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा है। कांग्रेस के नेताओं ने राहुल को हार से दूर रखते हुए ईवीएम को हार का जिम्मेदार बताया है।

हिमाचल प्रदेश में हार के बाद सीएम वीरभद्र सिंह ने कांग्रेस की हार को स्वीकारा है। सीएम वीरभद्र सिंह ने हार की जिम्मेदारी अपने ऊपर लेते हुए हार का ठीकरा सीनियर नेताओं पर फोड़ा है। नतीजे आने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि मैंने अपने संसाधनों के भीतर राज्य में अकेले प्रचार किया और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन देने की कोशिश की लेकिन जीत के लिए पूरी टीम को एकजुट होने पड़ता है। बता दे कि वीरभद्र सिंह को 6,051 वोटों के अंतर से अर्की सीट पर जीत हासिल की।

कांग्रेस की कमान संभाल रहे राहुल गांधी ने हिमाचल विधानसभा चुनावों के लिए एक बार भी हिमाचल का दौरा नहीं किया। वहीं भाजपा के लिए पीएम मोदी ने पहाड़ों पर कई चुनाव प्रचार रैलियां की थी। इस बात पर सीएम वीरभद्र सिंह ने भी कहा कि गुजरात के मुकाबले हिमाचल में प्रचार कम हुआ। उन्होंने जनादेश स्वीकार किया। उन्होंने कहा कि सरकार के चयन की जिम्मेदारी जनता की है और वही उन्होंने किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here