लखनऊ में सामने आया तीन तलाक का मामला, फोन पर दिया तलाक, FIR दर्ज

0
56

लखनऊ: देश में महिलाओं को बराबर का दर्जा देने के लिए सरकार प्रयास कर रही है। इस दिशा में उसने तीन तलाक को अवैध करार देने की मुहिम भी शुरू कर दी है। लोकसभा में सरकार को कामयाबी मिल चुकी है लेकिन राज्यसभा में बिल अटका हुआ है। मुस्लिम महिलाएं तीन तलाक जैसी प्रथा को अपने लिए श्राप मानती हैं। बता दें कि भारत की सर्वोच्च न्यायालय ने भी इसे असंवैधानिक करार दिया था जिसके बाद सरकार इसे रोकने के लिए कानून बना रही है। लखनऊ में तीन तलाक का एक मामला सामने आया है जिसमें पति अपने पत्नी को धोखा दे रहा था।

Image result for निकाह

आरोपी का नाम महबूब हैदर  है और उसकी साल 2015 में शादी हो गई थी। वो कानपुर का रहने वाला है। युवक ने कैसरबाग की युवती का धर्म बदलकर शादी की। उसने युवती से पहले से शादी  होने की बात भी छिपाई। जब उसकी करतूत सामने आई तो फोन पर पत्नि को तलाक दे दिया। युवती कोर्ट पहुंची तो उसके आदेश पर आशियाना थाने में केस दर्ज कराया गया है। युवती के वकील का दावा है कि बहुविवाह करने पर किसी मुस्लिम के खिलाफ देश में यह पहली एफआईआर है। 38 साल की पीडित विधवा है।

Image result for निकाह

पीड़िता ने बताया कि दोनों की शादी सेक्टर एल, एलडीए आशियाना कॉलोनी में एक फ्लैट में हुई। वहां हैदर ने बताया कि मौलवी धर्म परिवर्तन के बिना निकाह करवाने को तैयार नहीं है। तब न चाहते हुए भी पीड़िता को इस्लाम कुबूल करना पड़ा। शादी होने के बाद दोनों उसी घर पर रहने लगे। पीडिता ने आरोप लगाया कि हैदर बुरका पहनने के लिए मजबूर करने लगा।करीब 8 माह बाद हैदर के पहले से शादीशुदा होने का राज खुला। उसकी बीवी इलाहाबाद में रहती है। पीड़िता ने इसका विरोध किया तो हैदर उसे छोड़कर चला गया। सितंबर 2017 में फोन पर तीन तलाक भी दे दिया। पीड़िता कानपुर के स्वरूप नगर उसके घर पहुंची तो पूरी रात घर के बाहर ही गुजारनी पड़ी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here