लखनऊ: तीन सितारा होटल में चार युवकों के शव मिलने से सनसनी

0
288

लखनऊ: राजधानी के एक होटल से 4 युवकों के शव मिलने सनसनी फैल गई है। घटना पॉश विभूतिखंड इलाके में बने तीन सितारा होटल की है। बताया जा रहा है चारों युवक होटल के बेसमेंट में सो रहे थे और उन्होंने ठंड से बचने के लिए वहां पर कोयला जलाया। पुलिस ने चारों युवकों के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।  पहली दृष्टि से पुलिस इसे दम घुटने का मामला मान रही है लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही तस्वीर सामने आएगी।इस दौरान बर्तन में आग ले जाते हुए युवक सीसीटीवी में कैद हुआ है।

मृतकों के परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप

घटना के सामने आने के बाद परिवार में कोहराम मच गया है। परिजनों ने पहले होटल परिसर और हॉस्पिटल में हंगामा काटा और होटल मालिक के खिलाफ हत्या का आरोप लगाया। परिजनों के हंगामे के बाद पुलिस ने होटल मालिक और मैनेजर के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया गया है। चारों युवक होटल में डेलीवेज में काम करते थे। मृतकों की पहचान अहमद, मो शाहिद, राजकुमार और राम नरेश के तौर पर हुई है। घटना विभूतिखंड के कमता चौराहे पर तीन सितारा सुविधा से लैस रंजीज़ होटल की है।

होटल में चल रही है गड़बड़ी: पुलिस जांच के दौरान सामने आया कि होटल में कर्मचारियों का कोई पंजीकरण नहीं है जो कि श्रम विभाग से करवाना होता है।देनदारियों से बचने व न्यूनतम दैनिक वेतन देने से बचने के लिए होटल मालिक मजदूरों के पंजीयन की पड़ताल नहीं करते हैं।गैरपंजीकृत कर्मचारी होने के चलते इनके आश्रितों को श्रम विभाग से मजदूरों को मिलने वाली सुविधा नहीं मिल सकेगी। बता दे कि श्रम विभाग में पंजीकृत मजदूरों के कांस्ट्रक्शन के दौरान डेथ होने पर सरकार पांच लाख रुपए की आर्थिक सहायता देती है। कांस्ट्र्क्शन के दौरान हुए किसी हादसे में रजिस्टर्ड श्रमिक के गंभीर रूप से घायल होने पर तीन लाख रुपए की आर्थिक मदद मिलेगी।

 

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here