जब तक जान थी तब तक दुश्मनों के लिए आफत बना रहा देवभूमि का लाल शहीद राकेश चंद्र रतूड़ी

0
2301

देहरादून: देश की रक्षा के लिए फौजी अपनी जान निछावर कर देते है। उत्तराखण्ड का एक और लाल अपने को भारत मां के लिए कुर्बान कर गया। जेएंडके के सुंजवां आर्मी कैंप पर हुए आतंकी हमले में दून के बड़ोवाला निवासी 6 महार रेजीमेंट के हवलदार राकेश चंद्र रतूड़ी शहीद हो गए। शहीद राकेश चंद्र रतूड़ी की पत्नी और दो बच्चे दून में ही रहते है। इस खबर के बाद घर में मातम छा गया है। शहीद का पार्थिव शरीर मंगलवार देर शाम दून पहुंचा। लेकिन खबर सुनने के बाद बड़ोवाला स्थित उनके आवास पर दिनभर लोगों का जमावड़ा लगा रहा। सैन्य सम्मान के साथ शहीद राकेश चंद्र रतूड़ी का अंतिम संस्कार हरिद्वार में किया जाएगा।

अगले साल होना था रिटायरमेंट

शहीद राकेश चंद्र रतूड़ी के भाई रेवती नंदन के अनुसार वे 1996 में फौज में भर्ती हुए थे। वह जनवरी माह में कुछ दिनों के लिए छुट्टी पर आए थे। परिजनों ने बताया कि सोमवार रात को उनकी शहादत की खबर मिली तो परिवारों का रो- रो कर बुरा हाल है। शहीद का बेटा नितिन एसजीआरआर, पटेलनगर में पढ़ता है, जबकि बेटी किरण बीए की छात्रा है। परिजनों के मुताबिक शहीद की रेजीमेंट लद्दाख तैनात हो गई थी। लेकिन उन्हें रिलीव नहीं किया था। सेना में एक साल की सेवा और करने के बाद उन्हें 2019 रिटायर होना था।

एनएसजी में रह चुके कमांडो

Image result for पौड़ी का लाल शहीद

कुछ दिन पहले जम्मू कश्मीर के सुंजवां में फिदायीन हमला हुआ था। इस दौरान आतंकियों से लोहा लेते हुए 44 वर्षीय हवलदार राकेश चंद्र रतूड़ी शहीद हो गए। उनके शहीद होने की सूचना मिलते ही कृष्णा विहार, बड़ोवाला स्थित उनके आवास पर कोहराम मच गया। शहीद का परिवार मूलरूप से पौड़ी गढ़वाल के पाबौ ब्लॉक की पट्टी बाली कंडारस्यूं स्थित ग्राम सांकर सैंण का रहने वाला है। करीब सालभर पहले ही उन्होंने दून में घर बनाया था। उनके चाचा शेखरानंद रतूड़ी के मुताबिक राकेश का ट्रांसफर लद्दाख हो गया था, लेकिन अभी उनकी रेजीमेंट ने उन्हें रिलीव नहीं किया था। उनका कहना है कि वे एनएसजी में भी कमांडो रह चुके थे। जबकि शहीद के पिता महेशानंद रतूड़ी भी नौसेना से रिटायर थे। लेकिन दो साल पहले लंबी बीमारी के चलते उनका देहांत हो गया। शहीद राकेश चंद रतूड़ी की शहादत पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि राज्य सरकार शहीद के परिजनों को हर संभव सहायता प्रदान करेगी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here