चंद्रशेखर की रिहाई को लेकर प्रदर्शन, लखनऊ में राज्यपाल को सौंपा गया ज्ञापन

0
28

नई दिल्ली: त्रिपुरा में भाजपा की रिकॉर्ड जीत के बाद मूर्ति वार शुरू हो गया। त्रिपुरा के बाद ये विवाद उत्तर प्रदेश आ पहुंचा जहां बाबा भीमराव अंबेडकर की मूर्ति भी तोड़ दी गई। विपक्ष और विरोधी दलों ने इसका आरोप भाजपा कार्यकर्ताओं पर लगाया है।भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद उर्फ रावण की रिहाई की मांग को लेकर सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने कलक्ट्रेट मुख्यालय पर प्रदर्शन कर गिरफ्तारी दी। गिरफ्तारी देने वालों में 148 पुरुष व 92 महिलाएं शामिल रहीं। प्रदर्शनकारियों ने राज्यपाल के नाम दिए ज्ञापन में चंद्रशेखर को रिहा करने और सड़क दूधली कांड के आरोपितों को गिरफ्तार करने की मांग की। इसके बाद सभी को मौके पर ही रिहा कर दिया गया। भीम आर्मी के प्रदर्शन को देखते हुए शहर में आने वाले सभी रास्तों पर पुलिस ने विशेष चे¨कग अभियान चलाया। कलक्ट्रेट व उसके बाहर बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात रहा।

लखनऊ में मोहम्मद आरिफ और राघवेंद्र जी ने भी राज्यपाल को इस विषय पर ज्ञापन सौपा है। भीम आर्मी ने साफ कहा जा रहा है कि संस्थापक चंद्रशेखर आजाद उर्फ रावण की रिहाई जल्द से जल्द होनी चाहिए है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here