उत्तराखण्ड : भारतीय सेना को मिले 319 जांबाज सैनिक

0
167

रानीखेत :भारतीय सेना का उत्तराखण्ड के साथ गहरा नाता है । उत्तराखण्ड के कई जाबांज सेना में सिपाही से लेकर अफसर तक देश की सेवा कर रहे हैं । इसी कड़ी में सेना की कुमाऊं रेजीमेंट को उत्तराखण्ड की तरफ से 319 जांबाज सैनिक मिले हैं ।

भारतीय सेना के कुमाऊं रेजीमेंट के गौरवशाली इतिहास में एक नया अध्याय और जुड़ गया है । महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर मातृभूमि की आन, बान व शान की रक्षा के लिए भारतीय सेना को 319 नए जांबाज सैनिक मिल गए हैं । सेना के ऐतिहासिक सोमनाथ ग्राउंड के बहादुर गढ़ से देशभक्ति से ओतप्रोत बैंडधुन पर कदमताल करते इन सैनिकों ने अंतिम पग भरे। कमांडेंट केआरसी ब्रिगेडियर आतेश चहार ने रेजिमेंट की गौरवशाली परंपरा को बुलंदियों तक पहुंचाने का संदेश देते हुए फौज में भर्ती होकर देश के लिए जरूरत पड़ने पर सब कुछ न्यौछावर करने के लिए तत्पर रहने का आह्वान किया।

केआरसी मुख्यालय के लिए मंगलवार का दिन बेहद खास रहा। सेना के ऐतिहासिक सोमनाथ मैदान में रेजीमेंट की बैंडधुन के बीच आन बान शान की कसम लेकर 319 जवान भारतीय सेना के अभिन्न अंग बने। धर्म गुरु पंडित सूबेदार प्रकाश चंद्र ने राष्ट्रीय ध्वज व गीता को साक्षी मानकर इन जांबाजों को उनकी शपथ दिलाई। कमांडेंट बिग्रेडियर आतेश चाहर ने जांबाजों की सलामी ली। उन्होंने कहा कि जवानों ने सेना में शामिल होकर अपने जीवन का महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। देश की रक्षा के लिए जरुरत पड़ने पर प्राण भी न्यौछावर करने से पीछे नहीं हटने का संदेश देते हुए कुमाऊं रेजीमेंट के गौरव को बरकरार रखने का आह्वान किया है। भव्य कार्यक्रम में कर्नल नवदीप दहिया, कर्नल नीरज सूद, ले.कर्नल अक्षत भंडारी समेत तमाम जवान व सेना का हिस्सा बने जांबाजों के परिजन मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here